Sponsors
loading...
कंप्यूटर स्टूडेंट की चुदाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम प्रेम है और मैं पेशे से एक कंप्यूटर टीचर हूँ| मैं एक प्राइवेट स्कूल में १० से १२ क्लास के छात्र को कंप्यूटर की नॉलेज देता हूँ| दोस्तों मैं आप को बता दूं की ये मेरी पहली कहानी है| मुझे उम्मीद है आप मेरी इस पहली कहानी को पसन्द करेंगें| तो चलिए मैं कहानी शुरू करता हूँ मेरी उम्र उस टाइम २३ साल थी और मैं काफी खुबसूरत था| मेरी १० क्लास काफी ही अच्छी थी मेरी क्लास में १७ लड़के और ८ लडकिया थी सारे के सारे बच्चे बहुत ही अच्छे थे| सब के सब पढ़ने में आगे थे और खेलने में भी पर उस क्लास में एक काजल नाम की लड़की थी| जो की एक अमीर परिवार से ही थी| वो बहुत ही सुन्दर थी| मैं अपने सब छात्र को एक छात्र की नजर से देखता हूँ| पर जब से उसे देखा था तब उसने मेरी सोच ही बदल दी थी|

मुझे वो बहुत ही पसन्द आ गई थी| उसकी उम्र १६ साल थी और उसके फिगर की तो मैं क्या बात करूँ| आप को लंड भी ऐसे ही खड़ा हो जायेगा| उसका फिगर ३२-२८- ३८ था| मतलब की उसकी गांड ३८ की थी और चूची ३२ के| आप अब खुद ही अंदाजा लगा को की कितनी कमाल की होगी काजल| इतनी सी उम्र में उसने मेरे लंड में आग लगा राखी थी| जिस दिन मेरा उसे देख कर ज्यादा मूड खराब जो जाता था उस दिन मैं बाथरूम में जा कर उसके नाम की मुठ मार लेता था| तब जा कर मैं और मेरा लंड शांत होता था| मुझे उससे कहीं न कहीं प्यार सा हो गया था| जब भी स्कूल में कोई फंक्शन होता था तो वो एक परी बन कर आती थी| सारे स्कूलकी लड़किया और टीचर एक साइड और और वो एक अकेली एक साइड| सच में दोस्तों एक कमाल की परी जैसी लड़की थी| उसको चोदने में हमारे स्कूल के बाकी टीचर्स भी लगे हुए थे| उनमे से मैं भी एक था जो की उसकी मस्त गांड के पीछे लगा हुआ था| काजल सेक्सी होने के साथ साथ पढाई में भी काफी अच्छी थी| उसे कंप्यूटर में काफी इंटरेस्ट था इसलिए वो मुझे हाफ टाइम में भी कंप्यूटर सिखती रहती थी|

और इसी बहाने मुझे उसके कोमल और गोर हाथों को छूने का मोका मिल जाता था| मैंने उसे अपने रिस्क पर कंप्यूटर हाफ टाइम में यूज़ करने की परमिशन दे राखी थी| एक दिन हर रोज की तरह सारे बच्चे बाहर खेल रहे थे | और काजल अकेली कंप्यूटर रूम में बैठी कंप्यूटर यूज़ कर रही थी| जब मैं अन्दर आया तो मैंने देखा की काजल कंप्यूटर पर एक पोर्न साईट खोल कर उस पर एक पोर्न मूवीज देख रही है| मुझे देखते ही वो दर गई और मैं बहुत गुस्से में उससे बोला ये सब तुम क्या कर रही हो| तो वो बोली सर इसमें मेरी कोई गलती नहीं है| जब मैं यहाँ आयी थी तो ये सब पहले से चल रहा था मैं तो इसे बस बंद ही कर रही थी| मैं उसकी ये चल अच्छे से समझ रहा था इसलिए मैं बोला देखो अब तुम ज्यादा स्मार्ट बनने की कोशिश मत करो मुझे सब कुछ सच सच बताओ वरना मैं ये सब तुम्हारे मम्मी पापा को बता दूंगा| मेरी बात सुन कर काजल मेरे आगे रोने लग गई| और मुझसे माफ़ी मागने लग गई| पर मैं उसके मुह से सिर्फ सच सुनना चाहता था इसलिए अब उसके पास और कोई रास्ता नहीं था|

आखिर वो बोली – सर दरअसल ये साईट मैंने ही खोला था क्यूंकि ये साईट मैं अपने घर लैपटॉप पर भी देखती हूँ| ऐसा मैं इस लिए करती हूँ क्यूंकि मेरी चूत मुझे बहुत तंग करती है और ये सब देख कर मैं अपनी चूत शांत कर लेती हूँ| मैं – क्या तुम ने कभी सेक्स किया है? काजल- नहीं सर आज तक मैंने सेक्स नहीं किया क्यूंकि मुझे कोई मिला नहीं अभी तक| ये सुन कर मैंने सोचा ये एक अच्छा मोका है मैं मोके पर चोका मर देता हूँ| मैं- ठीक है क्या तुम मेरे साथ सेक्स करोगी| मैंने अभी उस से ये बात पूछी ही थी की सारे स्टूडेंट्स अन्दर आ गए| अब मेरा दिमाग पूरी तरह से ख़राब हो चूका था| इसलिए मैं बाथरूम में गया और मुठ मर कर आया| उस दिन मैं काजल से बात नहीं कर पाया| शाम को मेरे फ़ोन पर काजल की मम्मी का फ़ोन आया| और उन्होंने मुझे कहा की क्या मैं काजल को ट्यूशन पढ़ा सकता हूँ| ये सुन कर मैं बहुत खुश हो गया| इसलिए झट से हाँ कर दी| अब स्कूल के बाद काजल मेरे साथ मेरे घर आ जाती थी| और ५ बजे उसके पापा उसे अपने साथ घर ले जाते थे| मेरे घर में मेरा छोटा भाई हर टाइम रहता था इसलिए मैं ज्यादा कुछ नहीं कर पा रहा था| मैं सिर्फ उसकी टांगो और चूची पर हाथ फेर रहा था| पर मेरा लंड तो उसे चोदने के लिए पागल सा होता जा रहा था | मेरे घर उस टाइम मम्मी भी होती थी| पर काजल फिर भी मुझे मोका देख कर अपना चूची दिखा देती थी| अब मुझे और सबर नहीं हो रहा था|

मैं हर रोज उसके नाम की मुठ मर कर सोता था| आखिर एक दिन मैं घर आया तो मेरे घर में कोई नहीं था| मेरे घर वाले किसी काम से बहार गए थे| मैंने सोच लिया था की आज तो कुछ करना ही करना है| मेरा लंड पैजामे में तब्बू बनाये हुए था| कुछ ही देर में काजल आ गई मैंने उसे सोफे पर बिठाया और उसके लिए पानी ले कर आया| काजल की नजरे मेरे लंड पर थी| काजल- मुझे लगता है की आप की तबियत कुछ ठीक नहीं है| मैं- क्यों मुझे क्या हुआ है| काजल- अरे मैं तो आप के लंड को देख कर कह रही हूँ मैं- हाँ इसका मैं क्या ये तुम्हे देख कर पागल सा हो जाता है| काजल- तो इसे शांत करने का कोई इलाज करो ना| मैं- इसका इलाज तो एक मालिश ही है| काजल- बस इतनी सी बात है चलो मैं कर देती हूँ| आप सोफे पर नंगे हो कर लेट जाओ मैं तेल ले कर आती हूँ| उसके बाद मैं सोफे पर नंगा लेट गया और काजल तेल ले कर आई और मेरे खड़े लंड पर ढेर सारा तेल लगा कर उसकी मालिश करने लग गई|

काजल के कोमल और गोरे हाथो में लंड आ कर और पागल सा होने लग गया| वो बहुत ही मस्त तरीके से मेरे लंड की मालिश कर रही थी| मुझे सच में बहुत मजा आ रहा था फिर अचानक उसने अपने गुलाबी होंठो में मेरे लंड के टॉप को ले लिया और उसने चुसने लग गई| मेरे मुह से मस्ती से भरी आह आह की आवाजें निकला रही थी| मेरी दोनों आँखे बंद हो गई और कुछ ही देर में काजल मेरा लंड अपने मुह में दल कर चूसने लग गई| उसकी चिकनी जुबान के आगे मेरा लंड ज्यादा देर तक टिक नहीं पाया और अगले २ मिनट में ही मेरे लंड अपनी पानी से काजल का पूरा मुह भर दिया| फिर कुछ देर के बात वो खुद नंगा हो गई और उसने अपना चूत मेरे मुह पर ला कर रख दिया| कसम से उसका चूत मेरे मुहचूत मेरे मुह एक दम गोरा था उस पर एक भी बाल नहीं थे चूत अन्दर से एक दम खून की तरह लाल था| मैंने अपना जीभ उसके चूत में पेला और वो अपना चूत मेरे मुह में धकेलने लगी फिर मैंने चूत चूसने के बाद उसे सोफे पर पटक दिया और उस पर घोड़े की तरह स्वर हो गया| और अपना लंड उसके चूत पर रख दिया तो वो बोली ये आग का गोला कहाँ से आ गया मेरी चूत पर| मैंने कहा जाने तो दो फिर देखो| फिर मैंने एक झटका मारा उसकी चूत से खून आ गया| फिर चूत में एक बार जोर से लंड पेला तो वो चलाई फट गया फट मेरी चूत फट गई| वो रोनी लगी फिर मैं अहिस्ते अहिस्ते चोदने लगा फिर उसे भी मजा आने लगा वो भी निचे से अपना गांड उठाने लगी और मई चोदते चोदते उसकी चूत में पानी छोड़ दिया वो भी मुझे जोड़ से पकड़ कर बोली तुम मुझे हमेशा चोदोगे ना| मैंने हा कह दिया और वो चूत साफ कर के अपने घर चल दी|


(0) Likes (0) Dislikes
378 views
Added: Saturday, February 24th, 2018
Added By:
Vote This:        

Your Vote

×
Comments
Sponsors
loading...
Search Site
Share With Us
Random Video
Facebook
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...