Sponsors
loading...
क्या जादू है सेक्स का

दोस्तों मेरा नाम नकुल मेहता है और मैं सूरत में रहता हूँ | मेरी उम्र 31 साल है और मेरा कपड़ों का एक बड़ा सा शोरूम है | मेरी शादी हो चुकी है लेकिन मैं अपनी शादी से खुश नहीं हूँ इसलिए मैं ज्यादातर बाहर ही खुशियाँ ढूंढता रहता हूँ और बाज़ार में पैसे फेको तो क्या नहीं मिलता | वैसे हमारे घर में पैसे की कोई कमी नहीं है और ऊपर वाले की दया से धंधा भी अच्छा चलता है तो मेरे पास पैसे की कमी कभी नहीं रहती लेकिन जिस चीज़ की कमी रहती है वो मुझे कभी मिलती है | आपको लोग को लग रहा होगा मेरी शादी हो गई है लेकिन फिर भी मैं चूत मारने के लिए भटकता रहता हूँ | तो बात कुछ ऐसी है की मेरे घर वालों ने मेरी इसलिए करवा दी क्यूंकि लड़की बड़े घर की थी और पैसे बहुत मिल रहे थे और मेरी आँखों को भी सिर्फ पैसे की चमक ही दिखाई दी और यहीं पे मैंने गलती कर दी | मेरी पत्नी मोटी, गंदी सी शकल वाली जबकि मैं स्मार्ट और बॉडी बिल्डर, बस इतना समझ लो की मुझे वो पसंद नहीं | मगर शादी तो हो गई तो मैं भी यहाँ वहाँ से तंदूरी चिकन ढूंढ ही लेता हूँ |

अभी कुछ पहले की ही बात है मेरी और मेरी पत्नी की कुछ अनबन हो गई थी और मैंने कहा अब नहीं आऊंगा मैं और अपने फार्म हाउस चला गया | उस वक़्त मेरा दो लड़कियों से अफेयर चल रहा था जिसमें से एक को मैं बहुत बार चोद चुका था लेकिन जो अभी नई नई पटी थी मैंने उसको फ़ोन लगाया और अपना रोना धोना शुरू कर दिया | उसको नहीं पता था कि मैं शादीशुदा हूँ लेकिन ये पता था कि मैं अमीर हूँ और लड़कियों को चाहिए क्या | मैंने उससे कुछ इमोशनल बातें की और उसके बाद उससे कहा मैं यहाँ अकेला हूँ और मुझे तुम्हारी बहुत ज़रूरत है, तो उसने कहा अभी रात के 10 बज रहे है मैं कैसे आऊँ ? तो मैंने कहा मैं लेने आ जाता हूँ | वो कहीं बाहर की रहने वाली थी और यहाँ काम करती थी उसका नाम शिल्पी था और वो बहुत मस्त पटाखा पीस थी | मैं भी उसको लेने के लिए जल्दी से उसके रूम पहुँच गया और उसको लेके अपने फार्म हाउस आ गया | वो जाके बिस्तर पर बैठ गई और मैं उसके गोद में सर रखकर लेट गया | हम कुछ देर तक बातें करते रहे और उसके बाद मैंने उसका सिर पकड़कर नीचे किया और किस कर दिया | उसने एकदम से अपना सिर हटाया और कहा ये क्या कर रहे है आप ? तो मैंने कहा बस किस ही तो कर रहा हूँ | तो उसने कहा नहीं ये सब शादी के बाद करना, ये सुनके मेरी गांड फट गई | तो मैंने कहा अरे मेरी जानेमन शादी में तो अभी वक़्त है और ऐसा मौका बार बार नहीं मिलता तो उसने कुछ नहीं कहा | तो मैंने उसका हाँथ पकड़ा और उसे अपनी तरफ खींच लिया और ज़ोर से उसको अपनी बाहों में जकड़ लिया | फिर मैंने उसको किस किया और थोड़ी देर किस करने के बाद वो किस करने में मेरा साथ देने लगी |

उसके बाद मैंने उसको घुमाया और पीछे से उसको पकड़ लिया और उसके बाल किनारे करके उसकी गर्दन को चूमने लगा | मैंने उसकी गर्दन चूमी और पीछे से उसकी ड्रेस की चैन खोल दी और उसकी पीठ चूमने लगा | फिर मैंने उसके पूरे कपड़े उतारे और उसको बिस्तर पर लेटा दिया | फिर मैंने अपने कपड़े भी उतारे और उसके बाजू में लेट के उसको किस करने लगा | फिर उसकी छाती को चूमते हुए मैं उसके दूध तक पहुंचा और उसके दूध चूसने लगा | वो मेरे बाल सहलाने लगी और मैंने उसके दूध दबा दबा के चूसता रहा | फिर मैंने नीचे आया और उसकी नाभि को किस किया और उसके बाद उसकी चूत भी चाटी और वो अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ आआ अहह अहह अह्ह्ह्ह करती रही | फिर मैंने अपने लंड पे थूक लगाया और उसकी चूत में लंड डाल दिया | उसकी चूत टाइट थी लेकिन चुदाई के वक़्त खून नहीं निकला इसलिए मुझे उसपे शक हुआ लेकिन मुझे क्या मुझे तो चूत मिल गई थी | मैंने धीरे धीरे आगे पीछे करके उसको चोदना शुरू किया और वो अहहआआ अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ आआ अहह अहह अह्ह्ह्ह करती रही | मैं फिर रुका और उसके बाजू में लेट गया और उसकी एक टांग उठाके उसकी चूत में लंड डाला और उसकी चूत मारने लगा और अब वो ज़ोर ज़ोर से अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ आआ अह्ह्ह्ह करने लगी | थोड़ी देर उसको चोदने के बाद मेरा मुट्ठ निकला और मैंने उसके मुँह पर गिरा दिया और उसने खुद को साफ़ किया और फिर हम लिपटकर सो गए |

अगले दिन सुबह मेरी पत्नी का फ़ोन आया और मैंने सेव भी वाइफ नाम से किया | जब फ़ोन आया तो मैं सो रहा था इसलिए उसने फ़ोन पे वाइफ देखा और समझ गई | उसने मुझे बहुत कुछ सुनाया और एक थप्पड़ मार के चली गई लेकिन रात को उसकी चूत तो मर ही चुकी थी इसलिए मुझे उसके जाने का कोई गम नहीं हुआ | फिर मैंने अपनी पत्नी को फ़ोन करके कहा नहीं आऊंगा मैं और फ़ोन काट दिया | उसके बाद उसी दिन शाम के वक़्त मैंने दो रंडियाँ बुलाई वो नाचती भी थी और शराब का भी इंतेज़ाम कर लिया | यहाँ गुजरात में ये सब मना है लेकिन जब पैसा हो जेब में तो कोई दिक्कत नहीं होती | दो रंडियाँ आई, नाच हुआ और शराब भी पी लेकिन जो मज़ा चुदाई में है वो और कहाँ | पहले दोनों कपड़े पहन के नाच रही थी लेकिन मैंने कहा चलो अपने कपड़े उतारो और बिना कपड़ो के नाचो, तो उन दोनों ने कपड़े उतारे और नाचने लगी | नाचते हुए उनके दूध जो ऊपर नीचे हो रहे थे वही देखके मेरा मन मचल रहा था | फिर मैंने उनसे कहा बस करो और अपनी पैंट उतार के कहा अब तुम्हारी ज़रूरत इसको है आओ और वो दोनों मेरे आजू बाजू में आके बैठ गई | मैं एक एक हाँथ से दोनों के दूध दबा रहा था और एक रंडी मेरा लंड हिला रही थी और दूसरी मेरे गोटे सहला रही थी | मैं एक एक करके दोनों को किस कर रहा था और किस करने के बाद मैं आराम से बैठा रहा और वो दोनों मेरा लंड हिलती रही | पहले एक मेरा लंड हिला रही थी और उसके बाद दूसरी हिलती | फिर मैंने दोनों की चूत सहलाना शुरू कर दिया और एक को किस करने लगा | चूत सहलाने के बाद एक नीचे घुटनों पे बैठी और लंड चूसने लगी और दूसरी बाजू में बैठी थी तो मैंने उसके दूध चूसना शुरू कर दिया |

मैं उसके दूध चूस रहा था और वो अपने दूध पकड़ के उठाये हुए थी ताकि मैं ठीक से उसके दूध चूस सकूँ | मैंने भी उसके दूध चूसे और जब उसने ज़ोर से अपने दूध दबाए तो उसमें से दूध निकला और मैंने कहा अरे और दबाओ और उसने दबाए और दूध निकाला और मैंने उसके दूध से बहुत दूध पिया | फिर ये नीचे बैठ गई और लंड चूसने लगी और दूसरी वाली आके मेरे बाजू में बैठ गई और अब हम दोनों किस करने लगे | फिर मैंने उसके भी दूध चूसे और उसके बाद उसकी चूत में ऊँगली करने लगा | फिर मैं वहीँ पे लेट गया और एक आके मेरे लंड ऊपर बैठी और मेरा लंड पकड़ के अपनी चूत में डाला और ऊपर नीचे होने लगी | फिर वो उचकती रही और अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ आआ अहह अहह अह्ह्ह्ह करी रही और दूसरी मेरे बाजू में लेटी रही और मैं उसके दूध चूसता रहा | थोड़ी देर बाद वो हटी और दूसरी ने आके उसकी जगह ले ली और वो भी उचकती हुए अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ आआ अहह अहह अह्ह्ह्ह करने लगी | थोड़ी देर उचकने के बाद मैंने कहा अब तुम लेटो और मैं उठा और उसकी चूत में लंड डाल के ज़ोर ज़ोर के झटके मारने लगा और वो अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ आआ अहह अहह अह्ह्ह्ह करती रही | मैंने उसको थोड़ी देर तक तक चोदा और फिर दूसरी के पास जाके उसकी टांगें पकड़ के उसको अपने पास खींचा और उसकी चूत में लंड डाल के उसको चोदने लगा और वो अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ आआ अहह अहह अह्ह्ह्ह करती रही | थोड़ी तक मैं उसको चोदता रहा और उसके बाद मेरा मुट्ठ निकलने को हुआ तो मैंने लंड बाहर निकाला और दोनों की तरफ लंड करके पिचकारी मार दी और उनके ऊपर मुट्ठ गिरा दिया | फिर दोनों ने मेरा लंड चूस के साफ़ किया और कपड़े पहन के चली गई और मैं वहीँ सो गया | फिर अगले दिन सुबह उठके मैं घर वापस चला गया |


(0) Likes (0) Dislikes
133 views
Added: Friday, May 4th, 2018
Added By:
Vote This:        

Your Vote

×
Comments
Sponsors
loading...
Search Site
Share With Us
Random Video
Facebook
Sponsors
loading...
Our Pages
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...