Sponsors
loading...
गाँव की माल की चूत

हैलो दोस्तों मेरा नाम विनय ही और मैं कटनी का रहने वाला हूँ | अभी मैं भोपाल में रहकर जॉब कर रहा हूँ लेकिन मेरा गाँव आना जाना लगा रहता है | अभी मैं कुछ दिन पहले भैया की शादी में गाँव गया और अपनी गाँव की गर्लफ्रेंड को चोद के आया | वैसे वो मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी बात ये थी कि वो मुझे पसंद करती थी लेकिन मुझे वो पसंद नहीं थी पर क्या करूँ शादी का माहौल ही ऐसा था की मेरा मन हो गया | वैसे मैंने शादी में दो लड़कियों को चोदा था वो मैं आपको कहानी में विस्तार से बताता हूँ कैसे |

तो मेरे बड़े पापा के लड़के की शादी थी और ज़ाहिर सी बात है मुझे घर में काम करने के लिए बुलाया गया था | शादी गाँव की लड़की से ही थी और जिससे थी उसके रिश्ते में लगती थी शिखा, वो मेरी मुंह बोली गर्लफ्रेंड | तो अब भाई शादी का दिन था और मैंने भी बारात में जाने से पहले मस्त 4 पेग पी लिए थे और मस्त नशे में नाचते हुए पहुंचे और अन्दर जाके बैठ गए | तभी शिखा पानी लेकर आई और झुककर कहा पानी पी लीजिये और मैं था नशे में तो मैंने ग्लास पकड़ा और उसके दूध घूरने लगा | जब तक मैंने ट्रे से ग्लास नहीं उठाया तब तक उसने कुछ कहा भी नहीं और झुककर खड़ी रही और मैं दूध देखता रहा | वैसे दूध बड़े मस्त थे जैसे भी थे | थोड़ी देर बाद सब लड़के डी.जे. पास जाके नाचने लगे और मैं भी पहुँच गया और नाचने लगा, वो नशा तेज था ना | थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि शिखा भी नाच रही है, तो मैं धीरे धीरे उसके पास गया और फिर हम दोनों साथ नाचने लगे | आसपास भीड़ बहुत थी तो मैं शिखा के और करीब चला गया और तभी उसका पैर फिसला और वो मेरे ऊपर गिरी, तो मैंने उसको पकड़ा लेकिन मेरा हाँथ उसके दूध के ऊपर था और हम दोनों एक पल के लिए एक दूसरे को देखते रह गए |

कुछ दिन तक मेरी गांड फटती रही कि वो सीन वीडियो रिकॉर्डिंग में न आ गया हो लेकिन जब मैंने रिकॉर्डिंग देखी तो ऐसा कुछ नहीं था | उसके जब शादी हो रही थी तब मैं भी वहीँ बैठा था और वो भी, तो मैंने सोचा कि इसके मन में कोई गलत फेहमी न रहे इसलिए इससे बात कर लेता हूँ | उस वक़्त रात के करीब 2 बजे थे और बाहर बिलकुल सुनसान था इसलिए मैंने शिखा को आवाज़ लगाई और उसे बाहर बुला लिया | मैंने उससे थोड़ी बहुत यहाँ वहां की बातें की और उसके बाद मैंने उससे पूछा जो हुआ उसका तुम्हें बुरा तो नही लगा, तो उसने कहा नहीं, तो मैंने मजाक में कहा मतलब अच्छा लगा, तो उसने कुछ नही कहा और हँसने लगी | वैसे मैं और शिखा एक दूसरे को बचपन से जानते है और हम दोनों एक ही स्कूल एक ही क्लास में पढ़ते थे | तो मैंने उससे कहा अच्छा एक बार फिर कर लूँ, तो उसने कहा नही | तो मैंने उसक हाँथ पकड़ा और अपने लंड के ऊपर रखकर कहा तुम भी पकड़ सकती हो मैं मना नहीं करूँगा | उसने जल्दी से अपना हाँथ हटा लिया लेकिन मैंने उसके दूध दबाना शुरू कर दिया और वो बार बार मुझे मना करती रही लेकिन मैं नहीं रुका, फिर उसने मेरा हाँथ पकड़ लिया और पीछे कर दिया | तो मैंने अपना हाँथ छुड़ाया और पैंट की ज़िप खोलके लंड बाहर निकाला और उसको पकड़ा दिया |

उसने मेरा लंड एक बार आगे पीछे किया और छोड़ दिया लेकिन मेरा तो मन था तो मैंने आसपास देखा कि कोई नहीं है और उसको घुमा के उसका लहंगा उठा दिया और पैंटी नीचे करके उसकी चूत मलने लगा | फिर मैंने उसकी चूत और अपने लंड पे थूक लगाया और उसकी चूत में लंड पेल दिया | ये उसका पहली बार था इसलिए चोदते समय उसकी चूत से खून भी निकला था लेकिन मुझे दिखाई नहीं दिया और मैं उसको चोदता रहा और वो आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह हह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अहह्ह्ह्हह्ह नहीं नहीं नहीं आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआआआ ह्ह्ह्हह्हह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अहह्ह्हह्ह्ह्ह करती रही | मैंने उसको थोड़ी देर चोदा और मेरा माल निकलने को हुआ तो मैंने जल्दी से लंड बाहर निकाला वरना मुट्ठ अन्दर ही गिर जाता | मैंने वहीँ किनारे में मुट्ठ झड़ा दिया और फिर अपने लंड पे देखा कि खून लगा था | चोदने के बाद वो ठीक से चल नहीं पा रही थी, तो मैंने उसको पास में ही एक जगह पे बैठा दिया और जब उसको ठीक लगा तो हम अन्दर चले गए |

अब अगले दिन हमारे यहाँ रात को जश्न था जिसमें दारु होती है चिकन बनता है और नाचने वाली बुलाई जाती है और मैं तो शादी में आया ही इस चीज़ के लिए था | मैंने तो सोचा था कि नाचने वाली को मना लूँगा और बजा दूंगा क्यूंकि नाचने वाली एक से एक आती है | तो शाम हुई और महफ़िल सजी और हमारे घर के सब मर्द वहां उपस्थित थे मुझे मिला के | वहाँ लडकियाँ नाच रही थी और मैं यहाँ बड़े पापा, और पापा पे ध्यान दिया हुआ था कि कब इन लोग पीके टल्ली हो और मैं चांस मारुँ | मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ और नाच भी ख़त्म हो गया लेकिन वो लोग वहीँ बैठे रहे और लडकियाँ जाके स्टेज के पीछे बैठ गई | तो मैं वहीँ उनके पास पहुँच गया और दूर से एक लड़की को बुलाया और पूछा कितना लोगी ? तो उसने कहा मैं ये सब नहीं करती | तो मैंने कहा यार नाटक मत करो बताओ जल्दी कितना लोगी ? मैं दूंगा न और जेब से 2000 का नोट निकाला और कहा इतना, तो उसने नोट की तरफ देखा और कहा नहीं, तो मैंने एक नोट और निकाला और कहा इतना तो उसने कुछ नहीं बोला और फिर मैंने दो 500 के नोट निकाले और कहा अब तो ठीक है इतना काफी होता है | तो उसने मेरे हाँथ से पैसे लिए और कहा ठीक है लेकिन यहाँ नहीं और मैं उसको एक सुनसान जगह ले गया जो कि खेत के पास थी |

मैं उसको कुछ करता उससे पहले ही उसने कहा मुझे यह जगह ठीक नहीं लगती मैं यहाँ एक बार और पकड़ी जा चुकी हूँ | तो मैंने कहा कुछ नहीं होगा कोई नहीं आता यहाँ और एक मिनिट तुमने तो कहा था तुम ऐसी वैसी लड़की नहीं हो ? तो उसने कहा वो थोड़ा बहुत नाटक करना होता है | उस वक़्त चाँद की रोशिनी थी और लगभग सब कुछ दिख रहा था | पहले मैंने उसका टॉप ऊपर किया और उसके दूध दबाते हुए उसको किस करना शुरू कर दिया | मैंने उसको थोड़ी देर तक किस किया और उसके बाद उसके दूध चूसने लगा लेकिन उसके मुँह से एक आवाज़ नहीं निकली लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा | फिर मैंने उसका पजामा उतरा और उसकी पैंटी भी और उसकी चूत पे हाँथ फेरना शुरू किया और मुझे एक चीज़ समझ में आई ये ऐसी लडकियाँ हमेशा अपने चूत के बाल साफ रखती है जबकि मैंने जब शिखा को चोदा था तो उसकी चूत में काफी बाल थे | मुझे उसकी पे हाँथ फिराने में बहुत मज़ा आ रहा था इसलिए मैं थोड़ी देर तक बैठकर बस उसकी चूत ही घिसता रहा लेकिन अभी उसके मुँह से एक आवाज़ नहीं निकली फिर भी मैंने कुछ नहीं कहा | फिर मैं उसके ऊपर लेट गया और उसकी चूत में लंड डालके उसको चोदने लगा और अभी भी उसके मुँह से आवाज़ नहीं निकल रही थी तो मैंने कहा देखो थोड़ी बहुत सिसकियाँ लो मुझे मज़ा नहीं आ रहा है, तो उसने कहा मुझे डर लग रहा है कि कहीं मेरी आवाज़ सुन के कोई आ न जाए | तो मैंने कहा अरे कोई नहीं आएगा और फिर उसने सिसकियाँ लेना शुरू कर दिया आह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआआ ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आआआआ हह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह अहाआआअ | फिर मैं घुटनों पर आ गया और उसका थोडा ऊपर उठा के उसकी चूत में लंड डाला और जोर जोर के झटके मार के उसको चोदने लगा और वो आह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआआ ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आआआआ हह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह अहाआआअ करती रही | मेरा मुट्ठ निकल गया और मैंने उसके ऊपर ही गिरा दिया और फिर मैं उसके बाजू में लेट गया और उससे कहा चूसो मेरा और वो मेरा लंड चूसने लगी |

फिर मेरा लंड थोड़ी देर बाद फिर खड़ा हो गया और वो मेरे लंड के ऊपर बैठ के उचकने लगी और आह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआआ ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आआआआ हह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह अहाआआअ करती रही | वो बहुत देर तक मेरे ऊपर उचकती रही और फिर मैंने कहा निकलने वाला है और वो उठ गई और मेरा लंड हिला के मुट्ठ मरवाया और मेरे ऊपर ही गिरा तो उसने उसे चाट लिया | उसके बाद हमने कपडे पहने और वापस चले गए | उसके बाद मैं वापस भोपाल आ गया लेकिन अब जब भी जाऊंगा तो नाचने वाली का तो पता नहीं लेकिन शिखा को ज़रूर चोद के आऊंगा |


(0) Likes (0) Dislikes
599 views
Added: Thursday, March 29th, 2018
Added By:
Vote This:        

Your Vote

×
Comments
Sponsors
loading...
Search Site
Share With Us
Random Video
Facebook
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...