Sponsors
loading...
मामा की लड़की की गांड और चूत...

मैंं पिछले 5 सालों से रियलकहानी का नियमित पाठक हूँ, मैंंने सारी कहानियाँ पढ़ी हैं। आज उन्हीं से प्रेरणा लेकर मैंं आप सभी को अपनी एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ।
मेंरी यह कहानी पूर्णतया सच्ची है, मैंं अपने साथ बीते इन हसीन पलों को आप लोगों के साथ बाँटना चाहता हूँ।

bikini

पहले मैंं अपना परिचय दे रहा हूँ। मेंरा नाम रौशन है… मैंं गोरखपुर (उ.प्र.) का रहने वाला हूँ और पिछले 5 सालों से दिल्ली मेंं रह रहा हूँ। मेंरी उम्र 28 साल की है और मेंरा लंड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। अभी मेंरी शादी नहीं हुई है तो आप समझ सकते हैं कि अभी मैंं लंड का निजी तौर पर इस्तेमाल करके काम चला रहा हूँ।

घटना अभी एक महीने पहले की है जब मेंरी मामा की बड़ी लड़की आरती… जिसकी उम्र 22 साल की है और जो हुस्न की मलिका है… बैंक का एग्जाम देने दिल्ली आई थी। मेंरे मामा जी के घर पर नाना-नानी, मामा– मामी और उनके दो बच्चे आरती और अनुज हैं। नाना जी वृद्ध हो चुके हैं और मामा का अपना व्यापार है और अनुज अभी 12 साल का है… जिसकी वजह से आरती को दिल्ली अकेले आना पड़ा। हालांकि जाते टाइम उसे मेंरे साथ जाना था… लेकिन 10 दिन बाद जाना था।

मैंं आरती को लेने दिल्ली स्टेशन गया… ट्रेन अपने सही वक्त पर आई और जब बहुत दिनों के आरती मेंरी नजरों के सामने आई… तो मैंं उसे देख कर हैरान रह गया… क्योंकि मैंंने उसे आज से चार साल पहले देखा था… तब वो एक मासूम बच्ची सी लगती थी और अब… आह्ह… अब तो उसे देख कर किसी बुड्ढे का भी लंड खड़ा हो जाए…
क़माल का हुस्न… 34-28-32 का फिगर देख कर स्टेशन पर ही मेंरा मन बेचैन होने लगा।

अभी मैंं उसी के ख्यालों मेंं ही खोया था कि अचानक वो मुझसे गले मिलने लगी। उसकी 34 साइज़ की चूचियां मेंरे सीने पर चुभ रही थीं…
अचानक उसने मेंरे कान मेंं कहा- भाई अब आप ख्यालों से बाहर आ जाओ… अभी मैंं कुछ वक्त के लिए यही हूँ।
उसके इन शब्दों ने जैसे मुझे नींद से जगा दिया हो… मैंं उसे लेकर अपने फ्लैट पर गया… जो वन बीएचके का फ्लैट है।

फ्लैट पर पहुँचते ही मैंंने उसे फ्रेश होने के लिए कहा और मैंं उसके ब्रेकफास्ट के इंतज़ाम मेंं जुट गया।
कुछ देर बाद जब वो बाथरूम से निकली तो उसने टी-शर्ट और लोवर पहन रखा था… जिसमेंं से उसकी चूचियाँ और उसकी मोटे चूतड़ का आकार साफ दिख रहा था।
हालांकि उसके आने के पहले मेंरे दिल मेंं उसके लिए कोई ग़लत ख्याल नहीं था… पर जबसे उसे स्टेशन पर देखा, दिल के किसी कोने मेंं उसे चोदने का ख्याल बस गया था।

मेंरा ऑफिस 3 दिन के लिए बंद था तो काम की कोई प्राब्लम नहीं थी।
हम दोनों ब्रेकफास्ट करने लगे। मेंरी नज़रें बार-बार उसकी चूचियों पर जा रही थी… जिससे मेंरा लंड खड़ा हो गया।
ब्रेकफास्ट करने के बाद मैंंने अपना लंड टेबल के नीचे हाथ से अपनी अंडरवियर मेंं दबा दिया, उसके बाद बाथरूम मेंं जाकर मैंंने उसके नाम की मुठ्ठ मार कर अपने आपको शांत किया।

ब्रेकफास्ट करने के बाद मैंं उसको बाइक से दिल्ली घुमाने के लिए निकल गया और डिनर करके ही हम लोग घर आए।
उस दिन हमने खूब मस्ती की और रास्ते भर उसकी चूचियां मेंरी पीठ पर गड़ती रहीं… जिससे मेंरा लंड बेकाबू हो रहा था और मैंं उसे छुपा रहा था।
मुझे यह डर भी था कि अगर इसने देख लिया तो मेंरे बारे मेंं ना जाने क्या सोचेगी।

घर पहुँचने के बाद हमने कपड़े बदले और उसने इस बार टी-शर्ट और शॉर्ट्स पहन लिया… जिससे उसकी गदराई हुई जांघें और खिलती जवानी साफ दिख रही थी।
बिस्तर एक ही होने के नाते हम दोनों उस पर बैठ कर टीवी देखने लगे… कोई रोमाँटिक इंग्लिश मूवी आ रही थी।
थोड़ी देर बाद मूवी मेंं चूमा चाटी का सीन आ गया… जिसे देख कर मैंंने उसकी तरफ देखा तो पाया कि वो पहले से ही मेंरी तरफ देख रही थी और वो हँस कर फिर से मूवी देखने लगी।

उसकी हँसी ने मुझे और बेचैन कर दिया।
जब मूवी मेंं ज़्यादा रोमाँटिक सीन आने लगा… तो वो सोने का कह कर लेट गई और मैंंने टीवी और लाइट बंद कर दी… बस नाइट बल्ब जलने दिया।

वो आँख बंद करके सीधी लेट गई। कुछ देर तक मेंं उसकी चूचियों के पहाड़ों को देखता रहा। उसकी चूचियों के मस्त उभार मेंरे लंड को खड़ा करने के लिए काफ़ी थे।
नींद मेंरी आँखों से कोसों दूर थी… जबकि आरती अब तक सो चुकी थी।

रात के 12 बज चुके थे और तब तक उसकी चूचियाँ के उभारों ने मेंरा लंड मेंरे आपे से बाहर कर दिया था। लंड मेंरा पज़ामा फाड़ने के लिए तैयार था।
मैंं काफ़ी देर तक लंड सहलाता रहा और फिर आरती को आवाज़ दी…

जब मुझे पक्का यकीन हो गया कि आरती सो चुकी है… तो मैंंने सोने का नाटक करते हुए अपना एक हाथ उसके टी-शर्ट ऊपर उठ जाने के कारण खुले पेट पर रख दिया।
जब थोड़ी देर तक कोई हलचल नहीं हुई तो मेंरी हिम्मत और बढ़ी और मैंंने अपना हाथ डरते हुए उसके उभारों पर रख दिया।
फिर थोड़ी देर बाद उसे धीरे-धीरे सहलाना शुरू किया और उसकी टी-शर्ट को आहिस्ता-आहिस्ता उठाने लगा।

अब तक मेंरी धड़कन घंटे की तरह बजने लगी थीं।
उसने टीशर्ट के नीचे ब्रा नहीं पहन रखी थी। मेंरे दिल मेंं ख्याल आया कि कहीं आरती भी तो यही नहीं चाहती। यह ख्याल आते ही मैंं उसकी चूचियों को और तेज सहलाने लगा और उसके गुलाबी रसभरे होंठों को अपने होंठों मेंं क़ैद करके चुम्बन करने लगा।

थोड़ी देर मेंं मैंंने देखा कि आरती जो कि सोने का नाटक कर रही थी… मेंरा साथ देने लगी और मुझे पागलों की तरह किस करने लगी। इसके बाद मैंंने उसकी मस्त चूचियों को मसलना शुरू कर दिया और उसके होंठ चूसने लगा…
धीरे-धीरे मैंं उसे चूमते और चाटते हुए नीचे आने लगा और मैंंने उसके टी-शर्ट और शॉर्ट्स अपने हाथ से निकाल दिए, अब वो सिर्फ़ पैन्टी मेंं थी…

पहले मैंंने उसकी पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत पर चुम्बन किया और फिर अपने मुंह मेंं भर के चूसने लगा।
वो पूरी तरह गरम हो चुकी थी… तो मैंंने देर ना करते हुए उसकी पैन्टी और अपने सारे कपड़े निकाल दिए और उसके ऊपर चढ़ गया। मैंंने अपना लंड उसके मुंह के पास ले जाकर उसे चूसने के लिए कहने लगा… थोड़ी ना नुकुर के बाद उसने मेंरा लंड चूसना शुरू कर दिया।

अब मैंं सातवें आसमान पर था, उसने मेंरे लंड को मुंह मेंं ले आइसक्रीम की तरह चूस कर और भी मोटा कर दिया।
यह कहानी आप रियलकहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

फिर मैंंने उसे लिटाया और देर ना करते हुए उसके दोनों पैर अपने कंधों पर रख लिए और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा।
वो जल बिन मछली की तरह तड़प रही थी, जब उससे नहीं सहा गया… तो उसने खुद ही लंड उसकी चूत मेंं डालने का इशारा किया… और मैंंने भी देर ना करते हुए उसकी कमर पकड़ कर लंड उसकी गीली चूत मेंं पेल दिया।

अभी मेंरे लंड का सुपारा ही अन्दर गया था कि वो चिल्लाने लगी और कहने लगी- उई माँ… मैंं तो मर गई… भैया प्लीज़ अपना लंड निकाल लो… मुझे नहीं करवाना है… आपका बहुत मोटा है और प्लीज़ निकाल लो…

मैंंने उसकी परवाह किए बगैर उसके होंठों को अपने होंठों से क़ैद करके लगातार 3-4 झटके मेंं अपना लंड उसकी चूत की गहराई मेंं पेल दिया। उसकी आँखों से आँसू निकल आए और मुझे अपने लंड पर कुछ गरम तरल सा महसूस हुआ… मुझे लगा कि इसकी सील टूट गई है और यह उसी से निकले हुए खून की गर्माहट है।

हम दोनों थोड़ी देर इसी अवस्था मेंं लेटे रहे और जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंंने अपना लंड आगे-पीछे करना शुरू कर दिया। थोड़ी देर मैंं ही वो मेंरा पूरा साथ देने लगी… और ‘अहह… उहह… हमम्म्मह… आआआआ…’ की आवाजें निकालने लगी।
थोड़ी देर मेंं ही उसकी पकड़ टाइट हो गई और उसकी चूत ने अपना पहला कामरस छोड़ दिया।

मैंं फिर भी नहीं रुका… करीब 15 मिनट की लगातार चुदाई के बाद जब मेंरा भी रस निकलने वाला था… तो उसने मुझसे उसकी चूत मेंं ही झड़ कर उसकी गरम चूत को शांत करने को कहा।
बस थोड़ी देर मेंं ही मैंंने स्पीड बढ़ा दी और अपने लंड के गरम रस से उसकी चूत भरनी शुरू कर दी जिससे उसकी चूत बर्दाशत ना कर सकी और दूसरी बार अपनी जवानी का रस निकाल दिया।

मैंं थोड़ी देर उसके ऊपर ही लेटा रहा और फिर उसके बगल मेंं लेट गया। उस पूरी रात मेंं उसे खूब चोदा और अगले 10 दिनों तक यही सिलसिला जारी रहा।
इसी बीच मैंंने उसकी गाण्ड की भी सील तोड़ कर उसे गाण्ड मरवाने का मज़ा भी दिया और लिया।
अब वो जब भी दिल्ली आती है… तो अकेले ही आती है और आज भी उसे मेंं खूब चोदता हूँ।

आप लोगों को मेंरी सच्ची कहानी कैसी लगी… ज़रूर बताइएगा… और मुझे ईमेंल कीजिएगा।


(1) Likes (0) Dislikes
1422 views
Added: Thursday, November 2nd, 2017
Added By:
Vote This:        

Category: Hindi Sex Stories

Your Vote

×
Comments
Sponsors
loading...
Search Site
Share With Us
Random Video
Facebook
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...