Sponsors
loading...
लिफ्ट देना पडा महेंगा

नमस्ते दोस्तों, कैसे हैं आप सभी ? मैं उम्मीद करता हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे और सभी चुदाई के मजे ले रहे होंगे | मेरा नाम समीर पाठक है और मैं कानपुर का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 23 साल है और मैं अभी पार्ट टाइम जॉब करता हूँ मुंबई में | मैं दिखने में सांवला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 11 इंच है मेरी पर्सनालिटी भी अच्छी है | दोस्तों मैं इस साईट का दैनिक पाठक हूँ और मुझे यहाँ पर कहानियां पढ़ना अच्छा लगता है | इस साईट के बारे में मुझे पोर्न वीडियो वाली साईट से चला था | मैंने इसमें सिर्फ कहानियां पढ़ी है पर लिखी नहीं थी | आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की कुछ सच्ची घटना में से एक है | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी अच्छी लगेगी और आप लोगो को मेरी कहानी पढ़ कर मजा भी आएगा | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय नहीं लूँगा और अपनी कहानी शुरू करता हूँ |

मैं मुंबई में किराये से कमरा ले कर रहता हूँ और मुझे यहाँ पर जॉब करते हुए डेढ़ साल हो चुके हैं | मैंने ग्रेजुएशन के बाद ही सीधा पैसे कमाने का सोचा और मेरी किस्मत थी कि मुझे पहली बार में ही अच्छी जॉब मिल गई | मैं अपनी जॉब से बहुत खुश हूँ और मेरे साथ में काम करने वाले वर्कर भी बहुत अच्छे हैं और वो सभी हर काम सपोर्ट भी करते हैं | मुझे यहाँ किसी भी चीज़ की कमी नहीं थी सिवाए एक लड़की की | मेरे साथ जितने भी काम करते थे उनके गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड या तो ऑफिस के थे या बाहर के | उनलोगों को साथ में देख कर मुझे जलन होती पर मैं कर भी क्या सकता था | जब मैं सोने जाता तो मुझे चुदाई करने का बहुत मन होता लेकिन कोई थी ही नहीं मेरी तो मुट्ठ मारने के अलावा और कोई काम ही नही रहता | मैं मुट्ठ मारता और सो जाता | यही मेरा रोज का काम हो गया था | एक दिन की बात है मैं अपने ऑफिस से छूट कर जहाँ मैं रहता था वहां जा रहा था तभी मौसम एक दम सुहाना सा हो गया | मैंने सोचा कि चलो मौसम इतना अच्छा है तो क्यूँ न बियर पी ली जाए | उसके बाद मैंने अपनी गाडी बार की तरफ घुमाई और एक बियर की बोतल ले कर बैठ कर पीने लगा | मुझे करीब एक घंटा हो गया था बियर पीने में और शाम को पानी गिरने जैसा माहौल होने लगा था | मैं भी मस्त हौले हौले गाडी चलाते हुए आ रहा था तभी रस्ते में एक लड़की थी और उसने मुझे हाँथ दे कर रोका | मैंने भी लड़की देख कर गाड़ी रोक दी | मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ ? तो उसने कहा कि मैं अकेली हूँ और मुझे अपने घर जाना है | मैं यहाँ की रहने वाली नही हूँ और यहाँ के रस्ते मुझे नहीं पता | मैंने उसका एड्रेस पूछा और कहा कि मेरे पीछे बैठ जाओ और तुम फ़िक्र मत करो मैं तुम्हे छोड़ देता हूँ | फिर हम दोनों रस्ते में चलते हुए बात कर रहे थे | उसने अपना नाम साक्षी बताया और कहा कि मैं कानपुर की रहने वाली हूँ | ये सुन कर मैं खुश हो गया कि चलो मुझे मेरे ही शहर की कोई लड़की मिली | जब उसने मेरे बारे में पूछा तो मैंने भी उसे अपने बारे में बताया तो वो भी एक दम से हैरान हो गई कि यार उसकी किस्मत देखो उसके ही शहर का उसे लड़का मिला मदद के लिए | हम दोनों की ऐसी ही बाते चल रही थी और जब हम उसके इलाके पर पंहुचे तो उसने मुझे रास्ता बताया कि यहाँ से लेफ्ट यहाँ से राईट | जिस रास्ते पर वो ले कर गई वहां बहुत अँधेरा था तो मेरी गांड भी फट रही थी कि कोई लूट न ले मुझे और मैं नशे में भी था | जैसे तैसे उसे उसके घर मैंने ड्राप किया तो उसने कहा कि आपने मेरी इतनी मदद की है तो चाय तो पी कर जाइये | मैंने कहा नहीं यार अभी नहीं बहुत टाइम हो गया है मैं फिर कभी आऊंगा | पर वो मान नहीं रही थी और काफी मिन्नते करने के बाद मुझे उसकी बात मानना पड़ी |

जब मैं उसके घर के अन्दर गया तब मेरे तो होश ही उड़ गए | मैं एक चकले के अन्दर था | मैंने बाहर आने की कोशिश की तो उसने कहा कि अगर तू यहाँ से भागा तो तेरी इज्जत के साथ साथ बहुत कुछ चला जायगा | ये सुन कर मेरी गांड फट गई तो मैंने कहा ठीक है मैं नहीं भागूँगा | उसकी मालकिन ने उससे पूछा कौन है ये चिकना ? तो उसने कहा कि ये मेरा पर्सनल जुगाड़ है इससे मैं ही चुद्वाऊंगी | तो उसकी मालकिन ने कहा ठीक है छिनार पहले कितनी सीधी बनती थी अब देखो नए नए लंड ढूंढ कर लाती है | मैं क्या सोच रहा था और क्या से क्या हो गया | मेरा तो पूरा नशा हिरन हो गया था | वो मुझे फिर एक कमरे में ले कर गई | जब मैं अन्दर गया तो देखा कि वहां बस एक पलंग था और कुछ टेबल और कुर्सियां थी | उसके बाद उसने कहा ऐ चिकने चल अपने कपड़े उतार | मैं धीरे धीरे अपनी शर्ट के बटन खोलने लगा तो उसने कहा हाँथ में दम नहीं है क्या ? जल्दी उतार | फिर मैंने जल्दी से अपनी शर्ट को उतार दिया और फिर अपनी जीन्स भी उतार कर अलग कर दी | अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था | उसने कहा अब मैं तुझे अंडरवियर उतारने के लिए अलग से बोलूं क्या ? फिर मैंने अपनी अंडरवियर भी उतार दी और अब मैं पूरा नंगा था | उसने मेरे लंड को देखा और कहा तेरा लंड तो अच्छा है चुदवाने में मजा आयगा | फिर उसने भी अपने कपड़े उतार दिए और वो पूरी नंगी हो गई | वो मेरे पास आई और मुझे अपनी बांहों में ले कर चूमने चाटने लगी | मैं कुछ भी नहीं कर रहा था | फिर वो मेरे लंड को हिलाने लगी तो मैं उत्तेजित होने लगा और मेरा लंड तन के एक दम रॉड जैसा हो गया | वो पलंग पर बैठ गई और मेरे लंड को अपनी जीभ से चाटने लगी तो मेरे मुँह से आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह की सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे लंड को बहुत प्यार से चाट कर गीला कर रही थी और मैं आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए उसके दूध को अपने दोनों हाँथ से मसल रहा था | मेरे लंड को 5 मिनट चाट कर गीला करने के बाद उसने उसे मुँह में भर ली और चूसने लगी तो मैं आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए बेकाबू होने लगा | वो मेरे लंड को आगे पीछे करते हुए चूस रही थी और दोनों अंडकोष को भी चूस रही थी और मैं आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए बस मजे ले रहा था |

जब उसने लंड को चूस लिया तो मैंने उसके दोनों दूध को अपने मुँह में लिया और चूसने लगा तो वो आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | मैं उसके दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रहा था और वो आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए मेरे सिर के बालो को सहलाने लगी | उसके बाद मैंने उसे लेटाया और उसकी चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा | फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत में टिकाया और अन्दर घुसेड़ दिया | अब मैं उसकी चूत की चुदाई करने लगा तो वो आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए अपने दोनों दूध को मसलने लगी | मैं भी मजे से उसकी चूत को चोद रहा था | फिर मैंने अपनी रफ़्तार तेज कर दिया और उसके दोनों दूध को पकड़ कर जोर जोर से चोदने लगा तो वो भी आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए चुदाई के मजे ले रही थी | मैं जोर जोर से उसे चोद रहा था और वो आहा ऊनंह ऊम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मंह उआह्ह्न्न आहाआ ऊन्म्ह ऊंह करते हुए अपने कमर उठा उठा कर चुदवाने लगी | कुछ देर ऐसे ही चुदाई करने के बाद मैंने अपना वीर्य उसकी दूध पर ही झड़ा दिया |

उसके बाद उसने मेरी जेब से 3000 रूपए निकाले और फिर मुझे कहा कि अब तू जा | मैं भी अपने कपड़े पहन कर वहां से पतली गली से अपना रास्ता नापा और अपने रूम आ गया |


(0) Likes (0) Dislikes
315 views
Added: Thursday, March 29th, 2018
Added By:
Vote This:        

Your Vote

×
Comments
Sponsors
loading...
Search Site
Share With Us
Random Video
Facebook
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...