Sponsors
loading...
शादी के बाद

मेरा नाम गुंजन है और मेरी उम्र २७ साल है. मेरी शादी को दो साल हो गए हैं.

यह तब की बात है जब मैं शादी के बाद पहली बार अपनी माँ के घर गई थी. मैं अपनी सहेली कोमल से मिलने उसके घर गई तो वह बहुत खुश हुई.

हम दोनों बातें करने लगे. बातों बातों में उसने मुझसे पूछा कि दर्द हुआ था. मैं तो शरमा गई. मैंने नही सोचा था कि वो ऐसे पूछेगी. कोमल बोली कि शरमाओ नहीं ! बताओ ना !

मैं झिझक कर बोली- हाँ दर्द तो बहुत हुआ और खून भी निकला.

कोमल यह सुनकर उतेजित हो गई. कहने लगी कि क्या खून भी निकला?

मैंने हलके से सर हिला दिया. यह सुनकर कोमल बोली कि क्या तुमने पहली बार किया था?

मैंने कहा – हाँ.

ओहो तो तुम इतनी भोली हो. फ़िर कोमल कहें लगी अच्छा बताओ क्या क्या किया.

मैंने कहा- क्या मतलब?

अब इतनी भी भोली मत बनो. मुंह में डाला क्या?

मैं तो शरमा गयी. सच तो यह है कि मेरे पति ने मुंह में डालने के लिए कहा था, पर मैं डाल नही पाई. मैंने कोमल को सच बता दिया.

वह बोली- अरे तुमने अपने पति को यह मजा नहीं दिया?

मैंने कोमल से कहा की ऐसा कोई कैसे कर सकता है?

वह बोली- बहुत मजा आता है, तुम जरूर करना.

मैंने हिम्मत जुटा कर कोमल से पूछा कि क्या तुम करती हो.

उसने कहा- हाँ वह तो रोज करती है. लंड चूसे बगैर तो मजा ही नहीं आता.

हम बातें कर ही रहे थे कि कोमल के पति राजेश आ गए. कोमल को तो पता नहीं क्या हो गया, वो राजेश से बोली कि देखो इसकी शादी को दस दिन हो गए हैं और ये अभी तक लण्ड चूसना नहीं सीखी. मानती ही नहीं कि कोई ऐसे भी करता है. यह कहकर कोमल उठी और राजेश से बोली कि आओ इसे कुछ सिखा दें !

और उसने राजेश की जिप खोलकर उसका लंड बाहर निकाल लिया. इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, कोमल ने लंड मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. मैं तो देखकर हैरान रह गई. राजेश का लंड बहुत मोटा और लंबा हो गया था. कोमल उसे चूसने में व्यस्त थी. राजेश मेरी और देख रहा था और मैं भी उतेजित हो रही थी. मैंने पहली बार यह सब देखा था.

थोडी देर बाद कोमल बोली- देख कर मजा आ रहा है क्या?

मैंने कहा- हाँ !

कोमल ने बिना कुछ बोले मेरी सारी ऊपर उठा दी. उसका हाथ मेरी चूत पर पहुँच गया. मैंने पैंटी नहीं पहनी थी. कोमल की उँगलियों के स्पर्श ने मुझे और उतेजित कर दिया. मैं भूल गई कि राजेश भी वहीं खड़ा है. मेरी साड़ी मेरी जांघों तक उठ गई और मैंने अपनी टाँगे फैला ली. मेरी चूत पर बाल न देख कर राजेश उतेजित होने लगा.

कोमल बोली- अरे ! वह तुम्हारी चूत तो चिकनी है !

मुझे अब सिर्फ़ मजा आ रहा था और बिल्कुल होश नहीं था. कुछ ही देर में हम तीनो नंगे थे और राजेश कोमल को छेड़ रहा था और पता है मैं क्या कर रही थी?

मैं राजेश का लण्ड चूस रही थी !


(0) Likes (0) Dislikes
34 views
Added: Friday, May 4th, 2018
Added By:
Vote This:        

Your Vote

×
Comments
Sponsors
loading...
Search Site
Share With Us
Random Video
Facebook
Sponsors
loading...
Our Pages
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...