Sponsors
loading...
हॉस्टल में चुदाई -1

हैल्लो पाठको. कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे और चुदाई के मजे जरुर ले रहे होंगे | मेरा नाम श्रुति पाठक है और मैं जबलपुर मध्य प्रदेश की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 19 साल है और मैं अभी इंदौर में रह कर मेडिकल की पढाई कर रही हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ पर मेरा चेहरा थोड़ा नेपाली टाइप का है | मेरी हाईट 5 फुट 3 इंच है और मेरा फिगर ठीक ठाक ही है | बस अभी कुछ समय से मैं हलकी सी मोटी हो गई हूँ | दोस्तों मैं हॉस्टल में रहती हूँ तो आप लोगो को पता ही है कि हॉस्टल में कई जगह से बच्चे आते हैं और आप लोगो ने ये सुना भी होगा कि हॉस्टल में रहने वाली लड़कियां बिगड़ी हुई होती हैं | मैं पहले सीधी सादी लड़की थी पर मेरी एक रूम मेट थी जिसका नाम अनुष्का शर्मा था | उसने मुझे इस साईट के बारे में बताया कि इस साईट में अच्छी अच्छी कहानियां पढने मिलती है तो मैंने पढ़ा इसमें जितनी भी कहानियां अपडेट होती हैं | मुझे अच्छा लगने लगा तो मैंने रोज हो पढने लगी | मुझे कहानियां अच्छी लगने लगी तो मैंने सोचा कि क्यूँ न मैं भी अपनी एक कहानी आप लोगो के सामने पेश करूँ | आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी ये कहानी पसंद आयगी और मेरी कहानी पढ़ कर आप लोगो को मजा भी आयगा | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय नहीं लेते हुए सीधा अपनी कहानी पर आती हूँ |

दोस्तों मैं एक सिंपल साधारण घर से बिलोंग करती हूँ | पहले मैं तमिलनाडु में रहती थी उसके बाद पापा का जब जबलपुर ट्रान्सफर हुआ तो मेरी आगे की पढाई जबलपुर से हुई | मेरे पापा सरकारी नौकरी करते हैं और मेरी मम्मी हाउसवाइफ हैं | मेरा एक भाई है जो कि कॉलेज में हैं | मेरा भाई मुझे बड़ा है और मैंने 12वी के बाद ड्राप ले लिया था | मेरा एक साल बर्बाद न हो इस वजह से मैंने सोचा कि तैयारी अच्छे से हो जाये तो मैंने अपने घर में बात करके इंदौर में रह कर पढाई करने के बारे में कहा | पहले तो मेरे घर वालो ने मना कर दिया लेकिन बाद में घर वाले मान गए | उसके बाद पापा ने मेरा एडमिशन इंदौर की बेस्ट कोचिंग में करवा दिया | मेरे साथ ही मेरे पापा की दोस्त की बेटी ने भी ड्राप लिया था | हालाँकि मैं उसे पहले नहीं जानती थी लेकिन पापा ने बताया उसके बारे में और उस समय तो हम अच्छे दोस्त बन गए | पापा ने मेरा एडमिशन कर दिया और मेरे अकाउंट में पैसे भी डाल दिए ताकि मुझे बाद में कोई परेशानी भी न हो | अब मैं एक आजाद पंछी थी लेकिन मुझे अपना करियर बनाना था इसलिए मैंने सोचा कि थोड़ी मस्ती और ज्यादा पढाई करुँगी | उस समय मेरा रूम सेकंड फ्लोर में था और उस फ्लोर में सिर्फ कुछ ही लड़कियां थी | मैं और अनुष्का काफी बात भी करते और पढाई भी | एक दिन की बात है मैं क्लास गई हुई थी और अनुष्का नहीं गई थी | जब हमारे हॉस्टल के बच्चे क्लास जाते हैं तो हॉस्टल एक दम खाली सा हो जाता है | उस दिन हमारी एक क्लास हुई और दूसरी क्लास के सर आये नहीं तो मलतब छुट्टी ही समझो | मैं तुरंत ही अपने रूम जाने के लिए निकल गई | मेरा हॉस्टल कोचिंग क्लास से बस 15 मिनट की दूरी पर ही है | जब मैं अपने रूम पंहुची तो मुझे सिस्कारियों की आवाज़ आने लगी | मैंने सोचा कि देखा जाए कि क्या चल रहा है | जब मैंने दरवाजे के छेद से देखा तो वही सर जिनकी क्लास थी वो नंगे खड़े थे और अनुष्का भी नंगी थी | सर उसके दूध को चूस रहे थे और अनुष्का अआहा ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | मेरी नजर सर के लंड पर पड़ी तो मेरी गांड फट गई | बाप रे इतना बड़ा लंड और इतना मोटा काला सा | ये सब देख कर मुझे भी कुछ कुछ होने लगा था पर मैंने सोचा कि देखूं तो पहले ये दोनों किस हद तक जाते हैं | सर उसके दूध को जोर जोर से दबा दबा कर चूस रहे थे और अनुष्का ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए सर के बालो को सहला रही थी | फिर सर ने उसे मेरे बेड पर लेटा दिया | ये देख कर मुझे बहुत गुस्सा आया | क्यूंकि मुझे ये सब बहुत बेकार लगता था और मैं पेहली बार चुदाई देख रही थी | ये सब देख कर मुझे अच्छा भी लग रहा था और बुरा भी | सर अनुष्का के बाजु में आ गए जहाँ उसका सिर था | अनुष्का सर के लंड को हाँथ से पकड़ कर हिला रही थी और उसके बाद उसने सर के लंड को अपनी जीभ से चाटने लगी तो सर ने ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए उसके निप्पलस मसलने लगे | ये देख कर मेरी भी चूत गीली हो गई थी लेकिन फिर भी मैं देखना चाह रही थी | सर के लंड को उसने करीब 15 मिनट तक खूब चाटा और सर ने भी उसके दूध को खूब मसला | फिर वो सर के लंड को अपने मुँह में ले कर सुपाड़े को चूसने लगी तो सर ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए अपनी गांड कड़क कर के खड़े हो गए | अनुष्का सर के लंड को जोर जोर से आगे पीछे करते हुए चूस रही थी और सर ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा की सिस्कारियां भरते हुए उसके मुँह को चोद रहे थे | काफी देर उसके लंड को चूसने के बाद सर उसके पैरो के पास आ गए और उसकी टांगो को फैला कर चूत पर जीभ फेरने लगे तो अनुष्का ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए अपनी गांड मटकाने लगी | सर बहुत ही मन लगा कर उसकी चूत को चाट रहे थे और अनुष्का ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए सर के मुँह को अपनी चूत पर दबा रही थी | फिर सर ने अपने लंड को उसकी चूत पर टिका कर कुछ देर सहलाया और फिर लंड को उसकी चूत के अन्दर डाल दिया | अब सर धीरे धीरे उसकी चूत में लंड अन्दर बाहर कर रहे थे और अनुष्का ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए सर के हाँथ को कस कर पकड़े हुई थी |

कुछ देर ऐसे ही चुदाई के बाद सर ने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से अपने लंड को उसकी चूत में पेलने लगे तो अनुष्का ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए अपनी कमर उठा उठा कर अपनी चूत चुदवा रही थी | फिर सर ने उसे टेढ़ा लेटा दिया और एक टांग को उठा कर अपने कंधे में रख कर फिर से उसकी चूत में अपना लंड पेलने लगे तो अनुष्का ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए अपने दूध को मसलने लगी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद सर ने अपना वीर्य उसके मुँह के ऊपर झड़ा दिया | मैंने देखा कि अनुष्का वीर्य को अपने मुँह में मल रही थी | ये देख कर मुझे बहुत घिन आई | फिर ये दोनों अपने अपने कपड़े पहनने लगे क्यूंकि बाकी लड़किओं के आने का भी टाइम हो गया था | जब सर रूम से बाहर निकलने वाले थे तो मैं वहां से हट कर जल्दी से बाथरूम में घुस गई | जब मैं बाथरूम गई तो अपनी पेंटी उतार कर देखा तो मेरी पेंटी पूरी चूत के पानी से गीली हो चुकी थी | तो मैंने अपनी चूत में ऊँगली डालने की कोशिश की पर मुझे दर्द होने लगा तो मैंने फिर अपनी चूत में ऊँगली नहीं डाली | जब बाकी बच्चो की आवाज़ आने लगी तो मैं बाहर आ गई और फिर अपने रूम में गई | रूम में जा कर अनुष्का से पूछा कि आज तुम क्यूँ नहीं आई | तो उसने कहा कि यार मेरी मम्मी का कॉल आया था उन्होंने कहा कि यार आज मत जाओ मुझे कुछ काम है इसलिए तुम मेरा काम पहले करवा देना | तो मैंने पूछा कि कौनसा काम था ? तो उसने कहा अरे वो छोड़ ये बता कि आज सर ने क्या पढ़ाया तो मैंने कहा यार आज तो सर आये ही नहीं थे और मैंने काफी देर तक उनका वेट किया उसके बाद मेरी फ्रेंड का कॉल आया तो मैं उसके पास चली गई |

दोस्तों आगे की कहानी मैं अगले भाग में बताउंगी |


(0) Likes (0) Dislikes
228 views
Added: Tuesday, March 27th, 2018
Added By:
Vote This:        

Your Vote

×
Comments
Sponsors
loading...
Search Site
Share With Us
Random Video
Facebook
Sponsors
loading...
Our Pages
Sponsors
loading...
Sponsors
loading...